खुशबू

कभी लफ़्जों में ढल जाती हूं
कभी आखों में पिघल जाती हूं
मैं तो तेरी खुशबू हूं
हर तरफ़ बिखर जाती हूं

Related Articles

Responses

New Report

Close