ख्वाब बुने

आओ एक ख्वाब बुने कल के वास्ते,
सबकी अपनी अलग है मंज़िल पर एक है रास्ते,
कुछ तो अलग करेंगे कुछ तो नया करेंगे अपने देश के वास्ते,
चलो आज ही तय कर लेते है कौन से सही है रास्ते,
जुनून है जज्बा है आत्मविश्वास से भरा एक हौसला है,
दो हाथ है दो पैर है और सबसे महत्वपूर्ण कुछ अलग करने की लगन है,
पर चिंता की है कि सब अपने में मगन है,
पर हम जानते है कि नीचे धरा है ऊपर गगन है
और हम में कुछ नया करने की लगन है ।

अंशिका जौहरी

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

5 Comments

  1. देवेश साखरे 'देव' - September 16, 2019, 12:50 pm

    Nice

  2. NIMISHA SINGHAL - September 16, 2019, 1:28 pm

    Good one

  3. Poonam singh - September 16, 2019, 3:20 pm

    Good one

  4. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 16, 2019, 3:51 pm

    वाह बहुत सुन्दर प्रस्तुति

Leave a Reply