गमगीन है सारा हिन्दुस्तान

गमगीन है हिन्दुस्तान
———————-
प्रणवदा थे राजनीति का एक जीता-जागता, सजीव संस्थान
निधन,राजनीति ही नहीं, जनता के लिए भी बङा नुकसान ।
गुणी, पढ़े लिखे, सादगी की थे जो जीती-जागती प्रतिमान
इस दौर में ढूँढे नहीं मिलेगा, उनकी बराबरी का कहीं
इंसान
विरोधियों से भी थी जिनकी अपने सगे-संबंधियों जैसी
पहचान
करनी कथनी में गज़ब का तालमेल, द्वेष का नहीं नामो-निशान
सैद्धांतिक नीतियों के बल पर दशकों तक बन रहे सबसे महान
विदेश मंत्री,रक्षा मंत्री वित्त मंत्री, राष्ट्रपति बन बढाया राष्ट्र का मान
पद्मविभूषित,सर्वश्रेष्ठ सांसद,प्रशासक,भारत रत्न,पाये बंगला मुक्ति सम्मान
सिद्धांतों को जीने वाले, दमन के विरोधी,
मानवता के पोषक पसंद करता जिन्हें सारा जहान
निधन, एक अपूरणीय क्षति है, गमगीन है सारा हिन्दुस्तान

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

कोरोनवायरस -२०१९” -२

कोरोनवायरस -२०१९” -२ —————————- कोरोनावायरस एक संक्रामक बीमारी है| इसके इलाज की खोज में अभी संपूर्ण देश के वैज्ञानिक खोज में लगे हैं | बीमारी…

लोकनायक

शत-शत नमन उस जन-नायक को लोकनायक से जाने जाते थे भारत-रत्न से सम्मानित, इंदिरा विरोधी कहलाते थे । आज जन्म दिवस है उनका हम नतमस्तक…

Responses

New Report

Close