चाँद ओढ़नी ओढ़ के देखो मेरी छत पर आया है

अलबेली यह रात नवेली
कुछ हमसे कहने आई है,
मीठे-मीठे प्यारे-प्यारे
संग में सपने लेकर आई है।
मैं मूंदूँ और खोलूँ पलकें,
नींद नहीं आती फिर भी
जाने क्या खोया है मैंने !
और जाने क्या पाया है,
यह तो जाने वो ही जिसने
मेरा चैन चुराया है।
चांद ओढ़नी ओढ़ के देखो
मेरी छत पर आया है।।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. Geeta kumari - March 8, 2021, 12:18 pm

    बहुत सुंदर

  2. neelam singh - March 8, 2021, 2:11 pm

    अलबेली यह रात नवेली
    कुछ हमसे कहने आई है,
    मीठे-मीठे प्यारे-प्यारे
    संग में सपने लेकर आई है।
    मैं मूंदूँ और खोलूँ पलकें,
    नींद नहीं आती फिर भी
    जाने क्या खोया है मैंने !
    और जाने क्या पाया है,

    बहुत ही उच्चकोटि की रचना

  3. neelam singh - March 8, 2021, 2:12 pm

    आप वाकई प्रतिभावान हो

Leave a Reply