चाह

जुङे हुये दो बेरंग लब हैं,
इनमें क्यों रंग भरना चाहते हो!!

हर अंग मेरा बेज़ुबान है,
तुम कैसे उन्हें बुलवाना चाहते हो!!

सूखी हुई सी आँखें हैं,
इनमें आँसूं क्यों लाना चाहते हो!!

टूटा हुआ दिल है मेरा,
उसे जोङने की क्यों जुगत लगाते हो!!

अनगिनत ज़ख़्मों से भरी हूँ,
उन पर क्यों मरहम लगाते हो!!

रोम-रोम मेरा दर्द से भरा है,
तुम उनको सुकून पहुँचाना क्यों जारी रखते हो!!

रूह मेरी भटक रही है,
तुम क्योंकर उसे बसाना चाहते हो!!

हर धमनी मेरी सिकुङ रही है,
उनमें रक्त संचरण बेकार ही करना चाहते हो!!

मैं बस एक अचल लाश हूँ,
तुम इस मुर्दे को जिलाना चाहते हो!!

मैं तो एक ख्वाब हूँ,
तुम मुझमें हकीक़त क्या ढूंढ़ते हो!!

मैं ख़ुद ही इक सवाल हूँ,
मुझमें क्यों जवाब तलाशते हो!!

ढीठ सा यूँ ,क्यों मन तुम्हारा है,
अनसुलझे को सुलझाने की, यूँ ज़िद कर बैठे हो!!

दिल तुम्हारा नासमझ बहुत है,
नादान से!ये क्या तुम बेवजह चाह बैठे हो!!

-मधुमिता

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

Responses

New Report

Close