जब से वो गये है

आंखे हैं पर देख नहीं सकते
जुबां तो है पर कुछ कह नहीं सकते
जब से वो गये है हमारी चौकट से
न किसी को देखने की चाहत है
न गुफ़्तगु की जुस्तजु है


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

7 Comments

  1. मोहन सिंह मानुष - July 25, 2020, 7:01 pm

    बहुत खूब

  2. Vasundra singh - July 25, 2020, 8:54 pm

    सुंदर

  3. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - July 25, 2020, 10:27 pm

    सुन्दर

  4. Satish Pandey - July 26, 2020, 8:29 am

    श्रृंगार के वियोग पक्ष की संवेदना सुन्दर तरीके से शब्दों में उकेरी गई है। थोड़ा चौखट में टाइपिंग मिस्टेक हुई है जो इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसों में हो ही जाती है। सुन्दर भाव मुखरित हुआ है।

  5. Geeta kumari - July 26, 2020, 8:46 pm

    Nice lines

  6. Abhishek kumar - July 30, 2020, 9:09 pm

    👌

  7. javed khan Hindi - August 6, 2020, 10:13 pm

    अति सुन्दर

Leave a Reply