जब हम सहेलियां जब मिलती हैं

कहते है ना!
दोस्ती कभी स्पेशल लोगो से नही होती,
दोस्ती जिनसे हो जाती है वह लोग ही स्पेशल हो जाते है।
जब हम सहेलियां जब मिलती हैं…
तो हमारी मुस्कान और हंसी सातवे आसमान पे होती है,
हमारी की मुस्कुराहट हमारी सारी चिंताओं को कुछ पलों के लिए दूर कर देती है.
जैसे एक आशिक़ के लिए उसके महबूब की मुस्कान क्या होती है इसका एहसास तो सिर्फ उन दोनों को ही होता है.
वैसे ये हमारी मुस्कान और हमारी बातें झरने के सामान होती है,
आंखें अनकहे राज़ सुनाती है, दीवारें धीमे-धीमे गुनगुनाती हैं जब हम सहेलियां जब मिलती हैं तो हमारी मुस्कान और हंसी सातवे आसमान पे होती है
रूठना- मनाना, कभी होता नहीं क्योंकि रूठने या फिर नाराज़ हो जाने वाली कोई ऐसी बात नहीं होती,
होती है तो बस एक ही बात होती है हमारी हंसी सातवे आसमान पे होती है जब हम सहेलियां जब मिलती हैं……..
दीवारें भी खामोशियां तब बुनती हैं और हवा भी चुप-सी तब गुज़रती है जब हम सहेलिया Office नहीं आती है, जब हम सहेलियां Office आती है तो हमारी हंसी सातवे आसमान पे होती है
ये हमारी दोस्ती पल दो पल की रिश्तेदारी नहीं, ये तो जिंदगी भर की यारी है दूर हो या पास ये तो फ़र्ज है उम्र भर निभाना, हम सहेलियां जब मिलती हैं………………….
तो हमारी हंसी सातवे आसमान पे होती है
हम सहेलियां एक गुलाब के पौधे के जैसे है जो हर कोई तोडना चाहता पर हम सहेलियां गुलाब के पौधे को बचाने के लिए काँटों का रूप लेती है हम सहेलियां जब मिलती हैं… ………
तो हमारी हंसी सातवे आसमान पे होती है
एक बात हमेशा याद रखना दोस्तों ढूंढने पर वही मिलेंगे जो खो गए थे, वो कभी नहीं मिलेंगे जो बदल गए है. …
हमारी दोस्ती वो नहीं जो धोखा दे, हमारी दोस्ती वो खुदा का अनमोल तोहफा,
जिस के कंधे सर रखकर रो सके और दुख में भी हंसा दे….
हमारी दोस्ती वो जो अपने दोस्त से गलत काम ना करवाएं, ना करने दे ऐसी दोस्ती को लाखों सलाम…
दोस्तों Poem on Friendship Day 2019 आपको कैसी लगी,
अगर अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ शेयर करना ना भूलें
और अगर आपका कोई सवाल है चाहो तो हमें कमेंट करके बताएं।
Anu Mehta

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

Responses

New Report

Close