जरा सा गौर से देखो

तुम्हारे हाथ में अपनत्व की
जो कुछ लकीरें हैं
उन्हीं में एक मैं भी हूँ
जरा सा गौर से देखो।
आईना सामने रख
खुद की नजरों में जरा देखो,
मिलूंगा नीलिमा में तुम
जरा सा गौर से देखो।
कहीं राहों में जब मुश्किल
खड़ी हो सामने कोई,
मिलूंगा साथ देता तुम
जरा सा गौर से देखो।
हर खुशी हो तुम्हारी बस
मुझे इतनी ही अभिलाषा
मित्र हूँ एक अदना सा
जरा सा गौर से देखो।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

भोजपुरी चइता गीत- हरी हरी बलिया

तभी सार्थक है लिखना

घिस-घिस रेत बनते हो

अनुभव सिखायेगा

5 Comments

  1. MS Lohaghat - October 3, 2020, 7:37 pm

    बहुत ही बढ़िया, जबरदस्त कविता सर, वाह

  2. Suraj Tiwari - October 3, 2020, 8:04 pm

    बहुत खूब चाचा जी

  3. Vasundra singh - October 3, 2020, 8:56 pm

    वाह बहुत बढ़िया

  4. Ramesh Joshi - October 3, 2020, 8:57 pm

    बहुत सुंदर सर, मित्रता पर कमाल लिखा है आपने

  5. Geeta kumari - October 3, 2020, 9:41 pm

    दोस्ती पर बहुत ही शानदार कविता लिखी है सर। “कहीं राहों में जब मुश्किल खड़ी हो सामने कोई, मिलूंगा साथ देता तुम, ज़रा सा गौर से देखो ” दोस्त का साथ देने की खूबसूरत भावनाओ को बहुत ही खूबसूरती से दर्शाया है ।आपकी लेखनी से बहुत ही सुन्दर साहित्य निकला है ।लेखनी को अभिवादन ।

Leave a Reply