जहां ए इश्क

न बंदिशें रोक पायी तुझे
न मिन्नतों का असर हुआ तुझ पर
ए दिल बता आखिर
जहां ए इश्क में ऐसा किया दिखा


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

13 Comments

  1. Geeta kumari - July 21, 2020, 2:16 pm

    बहुत खूब

  2. Sulekha yadav - July 21, 2020, 3:42 pm

    nice

  3. Kumar Piyush - July 21, 2020, 3:47 pm

    Maulik Panktiyan

  4. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - July 21, 2020, 7:41 pm

    उत्तम

  5. Rajiv Mahali - July 21, 2020, 8:46 pm

    Nice

  6. Satish Pandey - July 26, 2020, 8:33 pm

    प्रेम की तन्मयता किसी अवरोध को सहन नहीं करती है, यदि अवरोध सहन करती है तो टूट जाती है, श्रृंगार रस की सुंदर अभिव्यक्ति हुयी है

  7. Abhishek kumar - July 30, 2020, 11:44 pm

    💯💯

  8. प्रतिमा चौधरी - September 7, 2020, 3:13 pm

    सुन्दर अभिव्यक्ति

Leave a Reply