जाड़ा का मौसम

जाड़ा का मौसम बड़ा सुहाना।
भाँति -भाँति के बनते खाना।।
गाजर का हलुआ सबको प्यारा।
खाओ मूंगफली भगाओ जाड़ा।।
गाजर शलग़म मूली का अचार।
बड़े स्वाद लेकर खाए सब यार।।
आंवले को खा पानी पीना।
मूंह का मीठा -मीठा होना।।
च्यवनप्राश भी खाने को मिलते।
गेंदा गुलाब के फूल भी खिलते।।
ताजे -ताजे गुड़ भी घर में।
घच्चक रेवड़ी सजा शहर में।।
ऐसा सुंदर शरद है काल ।
हम बच्चे हो गए निहाल।।
*************बाकलम********
बालकवि पुनीतकुमार ‘ ऋषि ‘
बस्सी पठाना (पंजाब)


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. Geeta kumari - January 10, 2021, 8:33 am

    बाल कवि पुनीत कुमार की बहुत उम्दा रचना, जिसमें उन्होंने मौसमी फ़ल फ़ूल और सब्ज़ियों कि उपयोगिता और स्वाद के बारे में जानकारी दी है। बहुत सुंदर कविता है। लेखन यूं ही चलता रहे

  2. Satish Pandey - January 10, 2021, 8:57 am

    बाल कवि पुनीत ने ठंडक के मौसम में बनने वाले व्यंजनों , फल-फूल एवं खाद्य पदार्थों पर लेखनी चलाकर यह कविता प्रस्तुत की है जो कि बहुत ही सुंदर और सराहनीय है। यूँ ही निरंतर लेखनी चलती रहे। खूब आगे बढ़ें। बहुत सुंदर लिखा है वाह।

Leave a Reply