जिंदगी मे व्यवहार जिंदा रखिए

✍?(अंदाज)?✍
—–$—–

जिंदगी मे व्यवहार जिंदा रखिए
जिंदगी मे सुसंस्कार जिंदा रखिए

रूठना मनाना क्रम है जीवन का
रूठकर भी नेह धार जिंदा रखिए

सच्चे प्रेम की परिभाषा यही है
नेह का श्रद्धा आपार जिंदा रखिए

बुराईया कटुता है मन का कचरा
मंशा मे शुद्धता सार जिंदा रखिए

सबको मिले संसार की हर खुशी
ऐसा सात्विक विचार जिंदा रखिए

खुद से मिले इंसान को प्रसन्नता
धारणा ऐसी बेशुमार जिंदा रखिए

श्याम दास महंत
घरघोडा
जिला-रायगढ(छग)
✍??????✍
( दिनांक-09-04-2018)


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. राही अंजाना - July 31, 2018, 10:37 pm

    Waah

Leave a Reply