जीवन दायिनी

हे माँ! तू जीवनदायिनी ।
तू है माँ इस जग की माता,
तेरी ममता हर कोई पाता
तुमसे है हमसब का नाता
पुत्र कुपुत्र सुने हैं भव में
पर तू तो है वरदायिनी,
हे माँ! तू जीवनदायिनी ।
तू तो है सौम्यता की मूरत
निष्ठुरता कहाँ तेरी फ़ितरत
करूणा वरसाती तेरी सूरत
तेरी महिमा अंकित थल-नभ में
तू तो है करूणामयी कल्याणी,
हे माँ! तू जीवनदायिनी ।
मानवता की तू निर्मात्री
पर यह कैसा संकट है मात्री
तेरे रहते बिलखे क्यू धात्री
डर एक बैठा हर मानव मन में
पीङ मिटा, हे विघ्नविनाशिनी,
हे माँ! तू जीवनदायिनी ।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. Anu Singla - October 18, 2020, 10:39 am

    जय माता दी
    सुन्दर

  2. Suman Kumari - October 18, 2020, 2:29 pm

    बहुत बहुत धन्यवाद

  3. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - October 18, 2020, 8:17 pm

    बहुत खूब

Leave a Reply