तिनके का महत्व

तिनके से सिया ने रावण को डराया,
तिनके में राम का स्वरूप दिखाया।
श्रद्धा हो तो तिनके में भगवान बसते ,
नहीं तो मूर्तियों में ही पाषाण दिखते।

तिनको से पक्षियों का घर बन जाता,
तिनका गजानन के मस्तक पर चढ जाता।
तिनका डूबते को सहारा दे देता है,
तिनका ब्रह्मशीर्षास्त्र का संधान कर देता है।

तिनका पतित को पावन बना देता,
तिनका सूतक के सारे दोष मिटा देता।
तिनके से पितरों का तर्पण होता,
तिनका बड़ा ही अनमोल होता।
✍️मयंक✍️


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

भोजपुरी चइता गीत- हरी हरी बलिया

तभी सार्थक है लिखना

घिस-घिस रेत बनते हो

अनुभव सिखायेगा

5 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - September 2, 2020, 10:20 am

    Atisunder kavita

  2. प्रतिमा चौधरी - September 2, 2020, 10:36 am

    सुंदर पंक्ति।

  3. मोहन सिंह मानुष - September 2, 2020, 12:02 pm

    बहुत सुंदर प्रस्तुति

  4. Geeta kumari - September 2, 2020, 12:28 pm

    सुंदर प्रस्तुति

  5. Satish Pandey - September 2, 2020, 11:09 pm

    बहुत खूब

Leave a Reply