तिरंगा हमारा भगवान है

तिरंगा हमारा भगवान है

तिरंगा बस झण्डा नहीं
हम सब का सम्मान है।
तिरंगा कोई कपडा नहीं
पूरा हिन्दुस्तान है।।

तिरंगा कोई धर्म नहीं
सब धर्मों की जान है।
तिरंगा बस आज नहीं
पुरखों की पहचान है।।

तिरंगा बस ज्ञान नहीं
ज्ञान का वरदान है।
तिरंगा कोई ग्रंथ नहीं
पर ग्रंथों का संज्ञान है॥

तिरंगा में दंगा नहीं
हिन्दु और मुसलमान है ।
तिरंगा कोई गीत नहीं
प्रार्थना और अजाने है॥

तिरंगा कोई मानव नहीं
मानवता की पहचान है।
तिरंगा में जाति-धर्म नहीं
ये तो हमारा भगवान् है॥

ओमप्रकाश चन्देल”अवसर’
पाटन दुर्ग छत्तीसगढ़
7693919758


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

कविता, गीत, कहानी लेखन

Related Posts

सरहद के मौसमों में जो बेरंगा हो जाता है

आजादी

मैं अमन पसंद हूँ

So jaunga khi m aik din…

9 Comments

  1. Sridhar - August 3, 2016, 3:44 pm

    bahut khoob likha hai janab…
    तिरंगा बस झण्डा नहीं, हम सब का सम्मान है।
    तिरंगा कोई कपडा नहीं, पूरा हिन्दुस्तान है।।
    Great lines !!

  2. MANOJ RAJDEV - August 3, 2016, 4:22 pm

    बहुत खूबसूरत जय हिंद

  3. Shivesh Agrawal Nanhakavi - August 3, 2016, 5:40 pm

    बहुत खूब जी

  4. Anil Goyal - August 4, 2016, 2:22 pm

    nice

  5. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 12, 2019, 7:59 pm

    वाह बहुत सुंदर

Leave a Reply