तिरंगा

( तिरंगा )

मैं हूँ भारत माँ का लाल
तिरंगा अंबर में फहराऊँगा
सिने में भर कर देश भक्ति
राष्ट्रगीत मैं गाऊँगा
लाल किले के शीर्ष पर
झण्डा मैं लगाऊँगा
भारत माँ की जयकारा लगाकर
शीश मैं झुकाऊँगा
तीन रंग का तिरंगा हैं पहचान
वीरो का हैं शान तिरंगा
भारतीयो का हैं जान तिरंगा
जन गण मन हैं गाते मिलकर
शान आन बान हैं तिरंगा
भारत माँ के बेटे का जान हैं तिरंगा
बुरी नजर ऊठी तिरंगे पर तो
छलनी सीना कर देगें
भारत माँ लाज बचाकर
दुश्मन को त्रस्त हम कर देगें
तिरंगा के अभिमान के लिए
जीवन को कुर्बान कर देगें

महेश गुप्ता जौनपुरी
मोबाइल – 9918845864

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

जंगे आज़ादी (आजादी की ७०वी वर्षगाँठ के शुभ अवसर पर राष्ट्र को समर्पित)

वर्ष सैकड़ों बीत गये, आज़ादी हमको मिली नहीं लाखों शहीद कुर्बान हुए, आज़ादी हमको मिली नहीं भारत जननी स्वर्ण भूमि पर, बर्बर अत्याचार हुये माता…

Responses

New Report

Close