तेरे शिकवे कभी न

तेरे शिकवे कभी न हवा हो सके
मेरे दर्द की तुम कभी न दवा हो सके
कुछ तार बिखरे, कुछ टूट गए
ख्वाब अपने कभी न जवाँ हो सके
राजेश ‘अरमान’

Related Articles

Responses

New Report

Close