त्यौहार

ये मौसम ऐसा आया है
जिसकी हवाओं मे त्योहारों की खुशबू आती है |
नई ख़ुशी और नई उमंगो का
एहसास दिल मे जगती है |
दीये की जलती जोत
निश्चय दृढ़ बनती है |
गलियों मे बजता शादियों का ढ़ोल और शेहनाइया
फिर से शादी का उत्साह जगती है |
पूरे भारत मे खुशियों का माहौल है
ये भावना गर्व मेरा बढ़ती है |

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

9 Comments

  1. देवेश साखरे 'देव' - September 23, 2019, 10:56 am

    बहुत बढ़िया

  2. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 23, 2019, 11:07 am

    वाह बहुत सुंदर

  3. Poonam singh - September 23, 2019, 12:32 pm

    Nice

  4. Mithilesh Rai - September 23, 2019, 2:50 pm

    बहुत खूब

  5. NIMISHA SINGHAL - September 23, 2019, 9:21 pm

    Wah

  6. nitu kandera - September 25, 2019, 2:35 pm

    वाह

Leave a Reply