थी जुस्तजू दिल को मगर…

रास्ते के पत्थर समझ के, ठोकर मार कर चले गए वो।
हम किनारे पे खड़े रहे, किसी के हो कर गुजर गए वो।।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Rishi Kumar - October 26, 2020, 6:01 pm

    🤔🙂✍👌

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - October 26, 2020, 9:08 pm

    वाह

  3. Suman Kumari - October 27, 2020, 1:35 am

    सुन्दर

Leave a Reply