दस्तावेज

दस्तावेज
———–
दबे पांव तृष्णायें घेर लेती है एकांत पा,
विचारों की बंदिनी बन असहाय हो जाती है चेतना।

अवचेतन मन घुमड़ने लगता है बादल बन,
लहलहाने लगती है विचारों की फसल।

ऋतु परिवर्तित हो..बसंती हवा से भिगोने लगती है मन।

मन के किसी कोने में बहुमूल्य दस्तावेजों के पन्ने खुलने लगते हैं एक- एक कर,
संवेदनाएं घेर लेती हैं।
धावों से रिसने लगता है लहू।

फिर शब्दों का मरहम शांत कर देता है मन,
समुंद्र की तलहटी में जाकर सुकून ढूंढता सा मन… फिर सतह
पर तैरने लगता है।
अद्भुत है यह प्रयास… डूबने और तैरने का।

साहसी, विद्रोही मन, छलनी देह को बांसुरी बना बजने लगता है,
आर्मी बैंड की धुन “वीर तुम बढ़े चलो” की तरह।

लेखनी हथियार बन सिर कलम करने लग जाती है…
शोषित, पीड़ित, अपराध बोध से ग्रसित आत्मा का।

सिर कलम होते ही परिंदे सी रुह,
बाहर निकल हंसने लगती है मुझ पर,
हथौड़े की चोट सी वह हंसी चटकाने लगती है अंतर्मन।

आंखे तरेर जताने लगती है घाव,
लेखनी पढ़ ही लेती है उन घावों को और रच देती है काव्य…
दस्तावेजों में संग्रह करने के लिए।

निमिषा सिंघल


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - January 7, 2021, 9:25 pm

    सुंदर

Leave a Reply