दिल का दीप

न होती हर रात अमावस की
न होती हर रोज दिवाली है।
जब दीप जले दिल का दिलबर
समझो उस रोज दिवाली है।।

Related Articles

Responses

New Report

Close