दिल दुःखाने लगे हैं लोग

बेगाने हो गये हैं लोग
अब कतराने लगे हैं लोग
अपने साये से भी
अब कोई उम्मीद ना रही
जाने क्यूं इतना दिल दुःखाने लगे हैं लोग…


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

6 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - December 12, 2020, 7:30 am

    वाह

  2. Geeta kumari - December 12, 2020, 7:55 am

    हृदय स्पर्शी पंक्तियां

  3. vivek singhal - December 14, 2020, 2:51 pm

    Beautiful poem

Leave a Reply