दीप ऐसा जलाओ

दीप ऐसा जलाओ
************************

***********************
दीप ऐसा जलाओ ऐ दिलबर
हर तरफ रौशनी -रौशनी हो।
न अमावस की हो रात काली
हर निशा चांदनी -चांदनी हो।।

कोई जलाए दीप कंचन का
और जलाए कोई चांदी का।
श्वेद सिक्त माटी ले वतन की
दीप माला बने सुखराती का।।
प्रेम का तेल निष्ठा की बाती
ज्ञान की राह रौशनी रौशनी हो।। दीप ऐसा

कोई मंदिर में जाके जलाए
और जलाए कोई निज घरों में।
कोई पनघट पे जाके सजाए
और जलाए कोई चौडगरों में ।।
एक दीपक ‘विनयचंद ‘ जलाना
वीर के राह में रौशनी रौशनी हो।। दीप

दिल में दीपक जला देशभक्ति के
हो गए बलिदान जो वीर बेटे।
कर विनयचंद ‘ वहाँ पर उजाला
जहँ समाधि में हो वीर लेटे।।
नाम उनके भी दीपक जलाओ
हर कदम रौशनी रौशनी हो।। दीप ऐसा
********###***************
पं. विनय शास्त्री ‘ विनयचंद ‘
बस्सी पठाना (पंजाब)

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

जंगे आज़ादी (आजादी की ७०वी वर्षगाँठ के शुभ अवसर पर राष्ट्र को समर्पित)

वर्ष सैकड़ों बीत गये, आज़ादी हमको मिली नहीं लाखों शहीद कुर्बान हुए, आज़ादी हमको मिली नहीं भारत जननी स्वर्ण भूमि पर, बर्बर अत्याचार हुये माता…

कोरोनवायरस -२०१९” -२

कोरोनवायरस -२०१९” -२ —————————- कोरोनावायरस एक संक्रामक बीमारी है| इसके इलाज की खोज में अभी संपूर्ण देश के वैज्ञानिक खोज में लगे हैं | बीमारी…

Responses

  1. दीप ऐसा जलाओ ऐ दिलबर
    हर तरफ रौशनी -रौशनी हो।
    न अमावस की हो रात काली
    हर निशा चांदनी -चांदनी हो।।
    वाह वाह, शास्त्री जी बहुत खूब

New Report

Close