दुनियाँ तो जहरीली है

सोंच समझकर कदम बढ़ाओ राह बहुत पथरीली है।
साथी मीठे सुर गुंजाओ, दुनियाँ तो जहरीली है।।

ख़ुशी परायी देख ख़ुशी से किसका हृदय मचलता है।
कौन हृदय है जिसके भीतर प्रेम- पपीहा पलता है।
बिना कपट के किस कोकिल के स्वर का जादू चलता है।
स्वार्थ न हो तो तुम्हीं बताओ, किसकी कूक सुरीली है।

साथी मीठे सुर गुंजाओ दुनियाँ तो जहरीली है।।

मोहक कलियाँ मिल जाती हैं राहों में आते जाते।
कुछ के अधर इशारा करते कुछ के नैना मुस्काते।
मृग मरीचिका ये आकर्षण सम्मोहन ही बिखराते।
इस मद की जद में मत आओ, वनिता नयन नशीली है।

साथी मीठे सुर गुंजाओ दुनियाँ तो जहरीली है।।

जीवन एक दौड़ स्पर्धा ठहर गए तो हार गए।
बाधाओं के गहरे सागर जो उतरे वो पार गए।
चलते चलते थके वही जो नहीं समय की धार गए।
समझो सँभलो बढ़ते जाओ पगडण्डी रपटीली है।

साथी मीठे सुर गुंजाओ दुनियाँ तो जहरीली है।।

संजय नारायण


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

भोजपुरी चइता गीत- हरी हरी बलिया

तभी सार्थक है लिखना

घिस-घिस रेत बनते हो

अनुभव सिखायेगा

4 Comments

  1. Rishi Kumar - November 2, 2020, 7:50 pm

    बहुत सुन्दर👌

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - November 2, 2020, 8:11 pm

    वाह बहुत खूब

  3. Geeta kumari - November 2, 2020, 9:07 pm

    सुन्दर रचना

  4. Pragya Shukla - November 6, 2020, 7:51 pm

    👏👏

Leave a Reply