दोस्ती

ना गम है
ना दर्द है
जो बिताया दोस्तों के साथ
वो ही सुनहरा वक्त है

ना है कोई खून का रिश्ता
फिर भी निभाते ये दिलवाले है
एक दूसरे में खुश रहते
ये मस्त मतवाले है

चाहे दिन हो या रात हो
कोई दुःख लगा ना पाए हाथ
अगर दोस्तों का साथ हो

कई सफल कहानियो के पीछे
दोस्तों का भी साथ होता है
जरुरी नहीं की हर बार
औरत का ही हाथ होता है

दोस्तों के बगैर
जीना भी क्या जीना
वो दोस्त ही क्या
जो ना हो कमीना

ज़िन्दगी बीत जाती है
बस रह जाते है कर्म
ज़िन्दगी जीना सीखा दे
वो ही है दोस्ती का धर्म

– हिमांशु ओझा

Happy friendship day dosto🥳🥳🥳👍🏻🥰


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

भोजपुरी चइता गीत- हरी हरी बलिया

तभी सार्थक है लिखना

घिस-घिस रेत बनते हो

अनुभव सिखायेगा

4 Comments

  1. मोहन सिंह मानुष - July 30, 2020, 1:52 pm

    “दोस्त और दोस्ती” का मतलब समझाती हुई सफल प्रस्तुति

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - July 30, 2020, 2:46 pm

    सुन्दर

  3. Abhishek kumar - July 30, 2020, 7:28 pm

    मित्रता की
    सुंदर कविता

  4. Satish Pandey - July 30, 2020, 9:59 pm

    बहुत अच्छी

Leave a Reply