दो रास्ते

एक रास्ता मय़खाने की ओर
दूसरा रास्ता शबाब की ओर।
उतावला दिल किधर जाए
इधर जाए या उधर जाए।।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Piyush Joshi - October 23, 2020, 7:36 pm

    वाह वाह, मझधार में फंसे दिल की खूबसूरत अनुभूति

  2. Praduman Amit - October 23, 2020, 7:42 pm

    शुक्रिया।

  3. Pragya Shukla - October 23, 2020, 10:17 pm

    बहुत सुंदर

Leave a Reply