धरती सचमुच माता है

धरती तो सचमुच माता है
सारा बोझ इसी पर तो है,
जन्म इसी पर मरण इसी पर
सारा बोझ इसी पर तो है।
हम अपने स्वारथ की खातिर
पाप कर्म में रत रहते हैं,
कभी जरा सा पुण्य कर दिया,
गर्वित मन में रहते हैं।
जरा किसी को दान कर दिया
हम समझे राजा बलि खुद को
धरती सारा दान कर रही
कभी जताती नहीं है खुद को।
अज्ञानी हम इसके तल पर
बुरे कर्म करते रहते हैं,
इसका सीना छलनी करके
अपना हित साधा करते हैं।
मगर धरा का धैर्य जिसे
वेदों ने भी गुणगान किया,
उसी धैर्य की मानव ने
अनदेखी की, अपमान किया।
प्राण बचाने को भोजन
देती है, धरती माता है,
तरह तरह के मधुर फलों को
हमें खिलाती माता है।
अपने तल पर हमें सुलाती,
प्राणवायु से थपकी देती,
हर इच्छा पूरी करती है
धरती सचमुच माता है।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

भोजपुरी चइता गीत- हरी हरी बलिया

तभी सार्थक है लिखना

घिस-घिस रेत बनते हो

अनुभव सिखायेगा

10 Comments

  1. Praduman Amit - October 19, 2020, 10:32 am

    सुंदर भाव।

  2. MS Lohaghat - October 19, 2020, 10:33 am

    वाह धरती माता पर जबरदस्त कविता।

  3. Piyush Joshi - October 19, 2020, 10:34 am

    लय औऱ भाव दोनों ही दृष्टि से उच्चस्तरीय कविता

  4. Pragya Shukla - October 19, 2020, 10:51 am

    Beautiful

  5. Raju Pandey - October 19, 2020, 11:14 am

    शानदार

  6. Geeta kumari - October 19, 2020, 12:00 pm

    धरती की महत्ता को ख़ूबसूरती से दर्शाती हुई कवि सतीश जी की बेहद भाव पूर्ण रचना।”मगर धरा का धैर्य जिसे वेदों ने भी गुणगान किया,उसी धैर्य की मानव नेअनदेखी की, अपमान किया।प्राण बचाने को भोजन देती है, धरती माता है, ” कवि ने सच की लिखा है कि धरती हमारी माता है,खाने को ,रहने को देती है ।
    बहुत ही सच्ची और सुंदर पंक्तियां, लाजवाब लेखन बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति ।

  7. Devi Kamla - October 19, 2020, 12:13 pm

    बहुत ही खूबसूरत वाह वाह

  8. Harish Joshi - October 19, 2020, 12:54 pm

    धरती माता का सुंदर चित्रण। धरती सचमुच माता की तरह हमारा पालन पोषण करती है और अपने ऊपर हो रहे हमारे अत्याचारों को काफी धीरज के साथ सहती है। सचमुच बहुत ही सुन्दर कविता।

  9. harish pandey - October 19, 2020, 3:22 pm

    Wah bhut khub🙏🙏

  10. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - October 20, 2020, 11:31 pm

    अतिसुंदर

Leave a Reply