धर्मु झांझी (गढवाली हास्य)

कोराना से बल सबुकी हालत पस्त हुयीं च
देश की अर्थब्यवस्था की भी हालत खस्त हुईं च
रोजी रोटी कु जुगाड़ ह्वो न हो पर,
दरोल्यों की एसूं दों बल फ्वां फ्वां हुयीं च
सरकिर की भल मनसा ह्वो न ह्वो पर एक बात त
100% च कि
धर्मुं झांझी बल देश की अर्थब्यवस्था की नींव बण्यूं च।।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. Satish Pandey - October 21, 2020, 11:35 pm

    हा हा हा, बहुत ही सुंदर

  2. Pragya Shukla - October 21, 2020, 11:37 pm

    Nice line

  3. Suman Kumari - October 21, 2020, 11:43 pm

    बहुत ही सुन्दर

  4. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - October 22, 2020, 3:10 pm

    अतिसुंदर

Leave a Reply