धीरे-धीरे…

तुम नहीं हो तो कुछ भी
अच्छा नहीं लगता
तन्हाई से निकलने का
रस्ता नहीं मिलता
गुजरा जाता है यूं तो
दिन धीरे-धीरे
पर जिन्दगी तुझ बिन बिताना
अच्छा नहीं लगता…


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

6 Comments

  1. Geeta kumari - October 18, 2020, 6:02 am

    बहुत सुंदर रचना

  2. Satish Pandey - October 18, 2020, 7:51 am

    अतिसुन्दर अभिव्यक्ति

  3. vivek singhal - October 18, 2020, 7:44 pm

    अति सुंदर रचना भावपूर्ण

  4. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - October 18, 2020, 8:17 pm

    अतिसुंदर

Leave a Reply