धूप

धूप,आज
कुछ, सरक आयी,
मेरे आंगन में….
और, बिखेर गई,
मुठ्ठी भर अबीर……

…. कविता मालपानी


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

8 Comments

  1. देवेश साखरे 'देव' - September 17, 2019, 11:26 pm

    वाह

  2. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 17, 2019, 11:44 pm

    वाह बहुत सुन्दर प्रस्तुति

  3. Poonam singh - September 18, 2019, 11:43 am

    Good

  4. Mithilesh Rai - September 18, 2019, 7:58 pm

    सुंदर रचना

  5. Abhishek kumar - December 25, 2019, 9:58 pm

    Good

Leave a Reply