धूप

धूप,आज
कुछ, सरक आयी,
मेरे आंगन में….
और, बिखेर गई,
मुठ्ठी भर अबीर……

…. कविता मालपानी

Related Articles

Responses

New Report

Close