नन्हें सुमन हैं

“बाल श्रम निषेध दिवस”
——————
नन्हे सुमन हैं इनसे
क्यों करवाते हो मजदूरी
पढ़ने दो स्कूल में इनको
ना करवाओ अब मजदूरी
खिलेगे नन्हे पुष्प तो
भारत का नक्शा बदलेगा
इनके आगे बढ़ जाने से
इनका भविष्य संभलेगा
ये कोमल टेसू हैं
मुरझा जायेगे झट से
फिर कैसे होगे परिपक्व
सुमन ये हँसते हँसते??

Related Articles

Jane kaha ja rahi aj ki pidhi

सभी मित्रों को हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ जाने कहां जा रही आज की पीढ़ी, नए नए ढंग है इनके, नई नई सोच है इनकी,…

Responses

  1. बहुत ही उच्चस्तरीय बात कही है आप अपनी छोटी सी कविता में।आपकी कविता तारीफ़ ए क़ाबिल है।

New Report

Close