नहीं मरेगा रावण

61-नहीं मरेगा-रावण

अहम भाव में बसता हूं मैं
कभी न मरता रावण हूं मैं
स्वर्ण मृग मारीच बनाकर
सीता को भी छलता हूं मैं..।

किसे नहीं है खतरा सोचो
केवल अपनी सोच रहे हो
रावण वृत्ति कभी न मरती
यह सुनकर क्यों भाग रहे हो..।

दुख का सागर असुर भाव है
क्या राम धरा पर आएंगे
सुप्त हुए सब धर्म-कर्म जब
रावण कैसे मर पाएंगे..।

धर्म बहुत होता त्रेता युग
तक केवल लंका में रहता
कलयुग पाप काल है ऐसा
रावण अब घर-घर में बसता.।

Published in Poetry on Picture Contest

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

Responses

  1. त्रेता में केवल एक रावण था।। पर
    कलयुग में रावण की कमी नही ..घर घर मे …है
    समाज को उंगली दिखलाती सच्ची कविता।

  2. बस लोग अपने अंदर चूपे रावण को मर ले यही असत्य पे सत्य की जीत होगी। जय श्री राम 🙏

  3. बहुत ही अच्छी कविता है। वर्तमान समय मे घर घर मे रावण बैठा ।तो हम सभी को राम जैसे सत्य आदर्शो पर चलने बाले सभ्य समाज की जरूरत है।

    1. आपने अपने सुन्ददर भाव व्यक्त किए.. हृदय से आपका धन्यवाद करता हूं

New Report

Close