नाग-सा अभिमान शायरी

मुझे निगलने चला था ,
नाग-सा अभिमान मेरा,
मगर मोर से संस्कार;
मेरी मां के ,
मुझे बचा लेते हैं।

Related Articles

#‎_मेरा_वाड्रफनगर_शहर_अब_बदल_चला_है‬

‪#‎_मेरा_वाड्रफनगर_शहर_अब_बदल_चला_है‬ _______**********************__________ कुछ अजीब सा माहौल हो चला है, मेरा “वाड्रफनगर” अब बदल चला है…. ढूंढता हूँ उन परिंदों को,जो बैठते थे कभी घरों के…

Responses

New Report

Close