नादान आशिक़

झील में उतरने से पहले काश मैं गहराई को नाप लेता।
अब दलदल में फंसता जा रहा हूँ काश कोई बचा लेता।।

Related Articles

Responses

New Report

Close