नारी ही तो मूल है

नारी ही तो मूल है, जीवन का आधार,
नारी के बिन शून्य है, यह सारा संसार,
यह सारा संसार, रचाया नारी ने ही,
प्यार, मुहब्बत दया, उपजती नारी से ही,
कहे लेखनी समझ, दूर कर शंका सारी,
जीवन की कल्पना, तभी है जब है नारी।
——– अंतराष्ट्रीय महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।
———- डॉ0 सतीश चन्द्र पाण्डेय।

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

Responses

  1. नारी ही तो मूल है, जीवन का आधार,
    नारी के बिन शून्य है, यह सारा संसार,
    _______नारी के सम्मान में लिखी गई कवि सतीश जी की छंद बद्ध बहुत ही सुन्दर रचना, सुंदर भाव एवम् सुंदर शिल्प, बहुत उम्दा अभिव्यक्ति

  2. लेखनी को सम्बोधित करती हुई

    नारी के प्रति सम्मान समर्पित करती सुंदर रचना

  3. नारी को जीवन का आधार बताती हुई,नारी के सम्मान में बहुत सुंदर कविता

New Report

Close