नाश, वासना छोड़ तुझे

ओ नवोदित पीढ़ी
मेरे भारत की,
उठ जा तू धूम मचा दे
हर क्षेत्र में हर विधा में
भारत को मान दिला दे,
तू है वह पौध जिसमें
कल के फल लगने हैं,
तूने ही राष्ट्र सजाना है
तूने ही नाम बनाना है।
पुरखों ने जो मार्ग दिया
या उन्नति की जो दिशा बनाई,
तूने उसको आत्मसात कर
थोड़ा सा कुछ नया रूप दे
आगे बढ़ते जाना है।
भारत का मान बढ़ाना है।
नशा, वासना छोड़ तुझे
ज्ञानी-विज्ञानी बनना है,
अच्छे लोगों की संगति अपना।
अच्छा तुझको बनना है।

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

कोरोनवायरस -२०१९” -२

कोरोनवायरस -२०१९” -२ —————————- कोरोनावायरस एक संक्रामक बीमारी है| इसके इलाज की खोज में अभी संपूर्ण देश के वैज्ञानिक खोज में लगे हैं | बीमारी…

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

Responses

  1. ओ नवोदित पीढ़ी
    मेरे भारत की,
    उठ जा तू धूम मचा दे
    हर क्षेत्र में हर विधा में
    भारत को मान दिला दे,
    __________नवोदित पीढ़ी को सुसंस्कार संस्कार देती हुई कवि सतीश जी की अत्यंत श्रेष्ठ प्रस्तुति । समाज में एक सुंदर साहित्य देती हुई एक उच्च स्तरीय रचना, लेखनी को सैल्यूट

  2. ओ नवोदित पीढ़ी
    मेरे भारत की,
    उठ जा तू धूम मचा दे
    हर क्षेत्र में हर विधा में
    भारत को मान दिला दे,
    __________नवोदित पीढ़ी को सुसंस्कार देती हुई कवि सतीश जी की अत्यंत श्रेष्ठ प्रस्तुति । समाज में एक सुंदर साहित्य देती हुई एक उच्च स्तरीय रचना, लेखनी को सैल्यूट

  3. आपकी कविता बहुत उच्च स्तरीय है सर, नई पीढ़ी को अच्छे संस्कार देने की बहुत सुंदर भावना। लाजवाब कविता

New Report

Close