निर्णय तुम्हारा

दूर रहकर जीवन यापन करने का
फैसला तुम्हारा था
मैंने तो बस साथ निभाया,
सम्मान किया, जो एकतरफा
निर्णय तुम्हारा था।
ये खामोशी
जो घर बना ली है
हम दोनों के दरमियां
इसकी बहाली भी तुम्हारी है
मुझे ये भी अजीज है
तोफा दिया तुम्हारा था।
तेरी छोटी सी भी ख्वाहिश को
सहेज के रखना,
ये खुबियाँ हमारी है
कही गयी कङवी बातों को
विस्मृत कर देना,
ये तेरी नज़ाकत है
रिश्तों के हुए हैं जो तार-तार
ये उत्तमता तुम्हारा है ।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - October 18, 2020, 8:19 pm

    अतिसुंदर

Leave a Reply