निश्छल

नदी नाम है अविरल बहती जलधारा की
त्याग, गतिमय, अवगुण-गुण का भेद मिटाने की
कश! हममें भी यह सब आ जाए
अपना चित भी तरनी से निश्छल हो जाएँ

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

“ धूप की नदी “

लड़की ; पड़ी है : पसरी निगाहों के मरुस्थल में ………….धूप की नदी सी । लड़की का निर्वस्त्र शरीर सोने—सा चमकता है लोलुप निगाहों में…

Responses

New Report

Close