निश्छल

नदी नाम है अविरल बहती जलधारा की
त्याग, गतिमय, अवगुण-गुण का भेद मिटाने की
कश! हममें भी यह सब आ जाए
अपना चित भी तरनी से निश्छल हो जाएँ

Related Articles

“ धूप की नदी “

लड़की ; पड़ी है : पसरी निगाहों के मरुस्थल में ………….धूप की नदी सी । लड़की का निर्वस्त्र शरीर सोने—सा चमकता है लोलुप निगाहों में…

आलोचक के गुण

किसी भी आलोचक के लिए सबसे अहम उसका आलोचनात्मक विवेक होता है | इस गुण के बिना आलोचक कवि या काव्य की आत्मा में प्रवेश…

Responses

New Report

Close