नि:स्वार्थ प्रेम

तुम धरा हो, मैं वृक्ष हूं
तुम चैतन्य हो, मैं प्रेम हूं |

तुम नदिया हो, मैं किनारा हूं
तुम अग्नि हो, मैं हवनकुंड हूं |

तुम जीव हो, मैं श्वास हूं
तुम मर्यादा हो, मैं छैला हूं |

सच कहूं मैं प्रिय तुम्हें तो
मैं हंस, तुम मेरी हंसिनी हो |

Related Articles

O raina tujhe mai kya kahu

ओ रैना, तुझे मैं क्या कहूं? रात कहूं, रैना कहूं या निशा कहूं, मिलता है दिल को सुकून, साये में तेरे, मिट जाती है सारी…

Responses

New Report

Close