न करो चमन की बरबाद गलियां

✍?अंदाज ?✍
——-$——–

न करो चमन की बरबाद गलियां
कुचल के सुमन रौंद कर कलियाँ

पुरुषार्थ है तुम्हारा तरूवर लगाना
बागो मे खिलाना मोहक तितलियां

आगाज करो नव राह बदलाव के
गुलशनो मे रहे सुकून की डलियां

माली हो तुम करो महसूस यहां
समझो सृजन की सत्य पहेलियां

मासूम वृक्ष लताएं हैं सव॔ धरोहर
फैलने दो इनकी मंत्रमुग्ध लडियां

संस्कार धरो प्रकृति का मान रखो
धरती पे निखारों मानवीय कडियां

श्याम दास महंत
घरघोडा
जिला-रायगढ(छग)
✍??????✍
(दिनांक -24-04-2018)

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. राही अंजाना - July 31, 2018, 10:32 pm

    Waah

  2. राम नरेशपुरवाला - September 12, 2019, 11:48 am

    Good

Leave a Reply