न करो चमन की बरबाद गलियां

✍?अंदाज ?✍
——-$——–

न करो चमन की बरबाद गलियां
कुचल के सुमन रौंद कर कलियाँ

पुरुषार्थ है तुम्हारा तरूवर लगाना
बागो मे खिलाना मोहक तितलियां

आगाज करो नव राह बदलाव के
गुलशनो मे रहे सुकून की डलियां

माली हो तुम करो महसूस यहां
समझो सृजन की सत्य पहेलियां

मासूम वृक्ष लताएं हैं सव॔ धरोहर
फैलने दो इनकी मंत्रमुग्ध लडियां

संस्कार धरो प्रकृति का मान रखो
धरती पे निखारों मानवीय कडियां

श्याम दास महंत
घरघोडा
जिला-रायगढ(छग)
✍??????✍
(दिनांक -24-04-2018)

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

Responses

New Report

Close