परछाइयां

वक्त की कद्र ,न करते कुछ लोग।
बस ,परछाइयों के पीछे भागते रहते हैं।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

16 Comments

  1. प्रतिमा चौधरी - September 8, 2020, 6:24 pm

    सुन्दर अभिव्यक्ति

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - September 8, 2020, 6:27 pm

    Nice

    • Geeta kumari - September 8, 2020, 6:29 pm

      सादर आभार सहित धन्यवाद भाई जी 🙏

  3. Pragya Shukla - September 8, 2020, 6:32 pm

    True line

  4. Satish Pandey - September 8, 2020, 6:44 pm

    बहुत खूब, दो पंक्तियों में बड़ी बात, वाह

    • Geeta kumari - September 8, 2020, 6:55 pm

      हौसला अफजाई के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया जी 🙏

  5. MS Lohaghat - September 8, 2020, 7:25 pm

    बहुत खूब, बिल्कुल सच

  6. Isha Pandey - September 23, 2020, 4:21 pm

    Bahut khoob

  7. Piyush Joshi - September 23, 2020, 4:21 pm

    Very nice

  8. Indu Pandey - September 23, 2020, 6:31 pm

    वक्त की कदर जरुरी होती है waah

    • Geeta kumari - September 23, 2020, 7:59 pm

      कविता का भाव समझने के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद इन्दु जी 🙏

Leave a Reply