पहले से ज्यादा

जिन्हें चाहते थे खुद से भी ज्यादा
न निभा सके वो अपना वादा
तन्हा जब छोड़ दिया जमाने ने हमको
हम खुद के करीब हो गए पहले से ज्यादा

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

H!

13 Comments

  1. NIMISHA SINGHAL - September 14, 2019, 3:40 pm

    Khubsurat Alfaaz

  2. Poonam singh - September 14, 2019, 3:54 pm

    Nice one

  3. देवेश साखरे 'देव' - September 14, 2019, 4:23 pm

    Wah kya khub kaha

  4. राही अंजाना - September 14, 2019, 7:02 pm

    वाह

  5. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 14, 2019, 9:02 pm

    वाह जी वाह

  6. राम नरेशपुरवाला - September 15, 2019, 11:47 am

    Nice

  7. Deovrat Sharma - October 4, 2019, 5:40 pm

    जिंदगी में जो खुद के करीब जितना जल्दी आ जाए उतना ही बेहतर है… सुंदर रचना

Leave a Reply