पाबंदी

सच बोलने पर, आज पाबंदी लग चुकी है।
मर चुके ज़मीर, यहाँ खुलेआम बिक रहे हैं।

डर के कारण, कोई आवाज़ नहीं उठाता
यूँ तारीफों वाले बोल तो, बहुत लोग बोल रहे है।

आज जो हालत हैं, ये किसी से छुपे नहीं
खुलकर कुछ कह नहीं सकते,
बस इसीलिए संभलकर लिख रहे है।

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

8 Comments

  1. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 8, 2019, 7:26 pm

    वाह बहुत सुंदर रचना ढेरों बधाइयां

  2. देवेश साखरे 'देव' - September 8, 2019, 8:33 pm

    बहुत खूब

  3. राम नरेशपुरवाला - September 9, 2019, 9:15 am

    बढ़िया

  4. NIMISHA SINGHAL - September 10, 2019, 9:09 am

    सही बात

  5. Sukhbir Singh Alagh - September 10, 2019, 9:53 am

    Thanks ji

Leave a Reply