पूस में किसान

कुछ दिन बचे हैं पूस के
ये भी निकल हीं जाऐंगे।
सर्दी है चारों ओर व्यापित
कब तक हमें सताऐंगे।।
क्या कंबल रजाई कफी है
सर्दी भगाने के खातिर।
तन मन की गर्मी काफी है
खुद को बचाने के खातिर।।
बेशक़ बिछौना पुआल का
सुख नींद सुला जाऐंगे।।
तन पे फटी है चादर
जलती अंगीठी आगे।
बैठे हैं खेतों के मेड़ पे
सारी सारी रात जाने।
कुछ दिन की तो बात है
अच्छी फसल ही पाऐंगे।
बादल घने आकाश मे
घनी अंधेरी रात है।
किनमिन -सी हो रही
कैसी ये झंझावात है।।
किस आश में ‘विनयचंद ‘
गिर कर संभल जाऐंगे ।
मजदूरों और किसानों की
विरले ही नकल लगाऐंगे।।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

भोजपुरी चइता गीत- हरी हरी बलिया

तभी सार्थक है लिखना

घिस-घिस रेत बनते हो

अनुभव सिखायेगा

9 Comments

  1. Satish Pandey - January 3, 2021, 6:22 pm

    किस आश में ‘विनयचंद ‘
    गिर कर संभल जाऐंगे ।
    मजदूरों और किसानों की
    विरले ही नकल लगाऐंगे।।
    —-बहुत ही शानदार पंक्तियाँ, बहुत सुंदर कविता, वाह

  2. Geeta kumari - January 3, 2021, 6:23 pm

    “तन पे फटी है चादर जलती अंगीठी आगे।
    बैठे हैं खेतों के मेड़ पे सारी सारी रात जाने।”
    पूस की ठंड में किसानों की स्थिति और मेहनत का यथार्थ चित्रण प्रस्तुत करती हुई बहुत सुन्दर कविता

  3. Chandra Pandey - January 3, 2021, 7:52 pm

    बहुत सुन्दर रचना है। वाह

  4. Pragya Shukla - January 3, 2021, 10:15 pm

    लाजवाब अभिव्यक्ति

Leave a Reply