पृथ्वी दिवस का मनाने का संदेश

पृथ्वी कितनी सुन्दर है
हमें यह सब कुछ देती है
पुरानी पीढ़ी के अनुभवी हाथ
पृथ्वी की रक्षा सुरक्षा के लिए
नई पीढ़ी के नन्हें हाथों में
पृथ्वी को इस आशा के साथ
सौंप रहे हैं कि
नई पीढ़ी के नन्हें हाथ
इस जीवनदायिनी पृथ्वी का
संरक्षण करेंगे।
पृथ्वी को भी बचाएंगे
खुद को भी बचायेंगे।
पर्यावरण को भी बचाएंगे।
यही पृथ्वी दिवस को
मनाने का सन्देश है।

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

“पृथ्वी दिवस”

पृथ्वी दिवस (22 अप्रैल) स्पेशल ——————————– इन दो हाथों के बीच में पृथ्वी निश्चित ही मुसकाती है पर यथार्थ में वसुंधरा यह सिसक-सिसक रह जाती…

Responses

  1. पुरानी पीढ़ी के अनुभवी हाथ
    पृथ्वी की रक्षा सुरक्षा के लिए
    नई पीढ़ी के नन्हें हाथों में
    पृथ्वी को इस आशा के साथ
    सौंप रहे हैं
    __________ चित्र के अनुसार बहुत सुंदर और सटीक रचना लिखी है आपने इंद्रा जी.. पृथ्वी के संरक्षण का दायित्व एक पीढ़ी अपनी अगली नई पीढ़ी के हाथों में सोंपती हुई दर्शाई गई है। बहुत ही सुंदर और शानदार कविता

  2. चित्र का सटीक विश्लेषण पुरानी पीढ़ी के हाथ नई पीढ़ी के नन्हें हाथों में पृथ्वी को इस आशा के साथ सौंप रहे हैं कि पृथ्वी को संरक्षित करने में नई पीढ़ी अपनी जिम्मेदारी समझेगी।

New Report

Close