प्यार करके तो देखो

कभी दिल के करीब आकर तो देखो।
प्यार का जज़्बात जगा कर तो देखो।

लगने लगेगी सारी जिंदगानी हंसीन,
किसी को ज़िंदगी में लाकर तो देखो।

ना बहकने देंगे हम, तुम्हारे कदम,
कभी गाम-दर-गाम मिलाकर तो देखो।

तुम हो हकीकत, तुम ही ख्वाब हो,
ख्वाब हंसीन प्यार के, सजाकर तो देखो।

थाम लेंगे ‘देव’ ता उम्र तुम्हारा हाथ,
कभी प्यार का हाथ, बढ़ा कर तो देखो।

देवेश साखरे ‘देव’

गाम-दर-गाम – कदम से कदम

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

10 Comments

  1. NIMISHA SINGHAL - November 3, 2019, 3:25 pm

    Nice

  2. Astrology class - November 3, 2019, 7:57 pm

    Nice

  3. nitu kandera - November 4, 2019, 7:25 am

    good

  4. nitu kandera - November 8, 2019, 10:17 am

    वाह

Leave a Reply