प्यार का इज़हार होने दीजिए

प्यार का इज़हार होने दीजिए।
गुल चमन गुलजार होने दीजिए।

खास हो एैसा ही, कोई पल दे दो,
वक्त को हम – राज होने दीजिए।

हो सदा वचनों में इक नव सादगी ,
प्यार काे अनुराग होने दीजिए।

कर करम एैसा भी कोई तो यहां,
मसखरा अब तुम न होने दीजिए।

दिल मिले हसरत हे योगेन्द्र मेरी
हो सके तो प्यार होने दीजिए।

योगेन्द्र कुमार निषाद
घरघोड़ा,छ०ग०
7000571125

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

Responses

  1. बहुत खूब…
    अभी ये तो हमारी पहली मुलाकात है
    इस मुलाकात का असर होने दीजिए

New Report

Close