प्रकृति सौंदर्य

प्रकृतिसौंदर्य

प्रकृति हवाओ के संग
झुम रहे हम सब
बगिया की रंग बिरंगी यादे
कू कू गाती कोयल प्यारी ।

झर – झर गिरती पानी कि बुदे
मदमस्त झुमती पेडो कि डाली
सर-सर-सर फर-फर-फर
गा रही हैं बसन्ती हवाये ।

पेडो कि डलिया में अब
रंगो – बिररंग-खिल आये फूल
भौरे भी गूँज रहे हैं
सुन्दरता भी गजब कि छाई ।

चंचल किरणे छेड रही
प्यारे फूल कलियो को
चन्द्र घटा भी शरमाई
देख प्रकृति सौंदर्य को ।

महेश गुप्ता जौनपुरी
गनापुर अजोशी जौनपुर
उत्तर प्रदेश – 222161

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

Responses

New Report

Close