प्रभु जी मेरो उध्दार तो करो

प्रभु जी मेरो उध्दार तो करो
जन्म-जन्म की पापीनी मैं
मेरा निस्तार तो करो ।
प्रभु जी मेरो उध्दार तो करो ।।
अहल्या तो तुमने तारा,
ग्यान दियो तुमने तारा को ।
मंदोदरी है भक्त तिहारा । ।
प्रभु जी मेरो निस्तार तो करो ।।
मोक्षदायक है प्रभु नाम तेरो ।
गणिका अजामिल भी तर गयो,
सुमिरन कियो तोरो नाम तो ।।
प्रभु मेरो उद्धार तो करो ।।
जन्म-जन्म की पापिनी हूँ मैं,
प्रभु जी अब दरश तो दिखाओ ।
प्रभु जी मेरो निस्तार तो करो ।।
कवि– विकास कुमार

Related Articles

हम दीन-दुःखी, निर्बल, असहाय, प्रभु! माया के अधीन है ।।

हम दीन-दुखी, निर्बल, असहाय, प्रभु माया के अधीन है । प्रभु तुम दीनदयाल, दीनानाथ, दुखभंजन आदि प्रभु तेरो नाम है । हम माया के दासी,…

Responses

New Report

Close