प्रेम का पहला खत

नाराज न होना खत को पढ़कर, न जानू मैं खत को लिखना।
बस आपके खातिर लिख डाला, यूॅ न हँस देना खत को पढ़कर।
कुछ शब्द चुनिंदा लिये हुए, कुछ खुशबु फूलो की लेकर यह कलम तुम्हारी तारीफों के गुण लिखती है हल्के-हल्के।
मैं सावन वाला गीत लिखूॅ या बरसात का कोई राग लिखूॅ इस कलम प्रज्जवलित ताकत से मैं प्रेम प्रदर्शी राग लिखूं। नाराज न होना खत को पढ़कर, न जानू मैं खत को लिखना।
बस आपके खातिर लिख डाला, यूॅ न हँस देना खत को पढ़कर।
मन मैं उमंग और तरंग लिये लिखता हूॅ खत मैं तुम्हे प्रिये, जो पढ़ते-पढ़ते इस खत को मेरी सूरत इसमें आ जाये, तो अपनी कोमल पलकों से
मुझको आँखों मैं भर लेना
मुझको आँखों मैं भर लेना


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - October 17, 2020, 8:38 pm

    अतिसुंदर

Leave a Reply