फर्क

फर्क सिर्फ अल्फ़ाज़ों का रह जाया करता है,
दर्द ऐ मोहब्बत में जब वक्त कोई ज़ाया करता है।।
राही (अंजाना)

Related Articles

Responses

New Report

Close